Ramanujan biodata. Srinivasa Ramanujan Facts & Biography 2019-01-07

Ramanujan biodata Rating: 6,2/10 1870 reviews

Srinivasa Ramanujan Profile, BioData, Updates and Latest Pictures

ramanujan biodata

रामानुजन का व्यवहार बड़ा ही मधुर था। इनका सामान्य से कुछ अधिक स्थूल शरीर और जिज्ञासा से चमकती आखें इन्हें एक अलग ही पहचान देती थीं। इनके सहपाठियों के अनुसार इनका व्यवहार इतना सौम्य था कि कोई इनसे नाराज हो ही नहीं सकता था। विद्यालय में इनकी प्रतिभा ने दूसरे विद्यार्थियों और शिक्षकों पर छाप छोड़ना आरंभ कर दिया। इन्होंने स्कूल के समय में ही कालेज के स्तर के गणित को पढ़ लिया था। एक बार इनके विद्यालय के प्रधानाध्यापक ने यह भी कहा था कि विद्यालय में होने वाली परीक्षाओं के मापदंड रामानुजन के लिए लागू नहीं होते हैं। हाईस्कूल की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद इन्हें गणित और अंग्रेजी मे अच्छे अंक लाने के कारण सुब्रमण्यम छात्रवृत्ति मिली और आगे कालेज की शिक्षा के लिए प्रवेश भी मिला। आगे एक परेशानी आई। रामानुजन का गणित के प्रति प्रेम इतना बढ़ गया था कि वे दूसरे विषयों पर ध्यान ही नहीं देते थे। यहां तक की वे इतिहास, जीव विज्ञान की कक्षाओं में भी गणित के प्रश्नों को हल किया करते थे। नतीजा यह हुआ कि ग्यारहवीं कक्षा की परीक्षा में वे गणित को छोड़ कर बाकी सभी विषयों में फेल हो गए और परिणामस्वरूप उनको छात्रवृत्ति मिलनी बंद हो गई। एक तो घर की आर्थिक स्थिति खराब और ऊपर से छात्रवृत्ति भी नहीं मिल रही थी। रामानुजन के लिए यह बड़ा ही कठिन समय था। घर की स्थिति सुधारने के लिए इन्होने गणित के कुछ ट्यूशन तथा खाते-बही का काम भी किया। कुछ समय बाद 1907 में रामानुजन ने फिर से बारहवीं कक्षा की प्राइवेट परीक्षा दी और अनुत्तीर्ण हो गए। और इसी के साथ इनके पारंपरिक शिक्षा की इतिश्री हो गई। रामानुजन का पैत्रिक आवास औपचारिक शिक्षा की समाप्ति और संघर्ष का समय विद्यालय छोड़ने के बाद का पांच वर्षों का समय इनके लिए बहुत हताशा भरा था। भारत इस समय परतंत्रता की बेड़ियों में जकड़ा था। चारों तरफ भयंकर गरीबी थी। ऐसे समय में रामानुजन के पास न कोई नौकरी थी और न ही किसी संस्थान अथवा प्रोफेसर के साथ काम करने का मौका। बस उनका ईश्वर पर अटूट विश्वास और गणित के प्रति अगाध श्रद्धा ने उन्हें कर्तव्य मार्ग पर चलने के लिए सदैव प्रेरित किया। नामगिरी देवी रामानुजन के परिवार की ईष्ट देवी थीं। उनके प्रति अटूट विश्वास ने उन्हें कहीं रुकने नहीं दिया और वे इतनी विपरीत परिस्थितियों में भी गणित के अपने शोध को चलाते रहे। इस समय रामानुजन को ट्यूशन से कुल पांच रूपये मासिक मिलते थे और इसी में गुजारा होता था। रामानुजन का यह जीवन काल बहुत कष्ट और दुःख से भरा था। इन्हें हमेशा अपने भरण-पोषण के लिए और अपनी शिक्षा को जारी रखने के लिए इधर उधर भटकना पड़ा और अनेक लोगों से असफल याचना भी करनी पड़ी। विवाह और गणित साधना वर्ष 1908 में इनके माता पिता ने इनका विवाह जानकी नामक कन्या से कर दिया। विवाह हो जाने के बाद अब इनके लिए सब कुछ भूल कर गणित में डूबना संभव नहीं था। अतः वे नौकरी की तलाश में मद्रास आए। बारहवीं की परीक्षा उत्तीर्ण न होने की वजह से इन्हें नौकरी नहीं मिली और उनका स्वास्थ्य भी बुरी तरह गिर गया। अब डॉक्टर की सलाह पर इन्हें वापस अपने घर कुंभकोणम लौटना पड़ा। बीमारी से ठीक होने के बाद वे वापस मद्रास आए और फिर से नौकरी की तलाश शुरू कर दी। ये जब भी किसी से मिलते थे तो उसे अपना एक रजिस्टर दिखाते थे। इस रजिस्टर में इनके द्वारा गणित में किए गए सारे कार्य होते थे। इसी समय किसी के कहने पर रामानुजन वहां के डिप्टी कलेक्टर श्री वी. Ramanujan was given a grant from the principal and he only had to pay half the fees. Eventually these doors will be also be opened and reveal answers in a new dimension of thought. He completed , his , in 1798 at the age of 21, though it would not be published until 1801. The scholarship was of a great help to him as he came from a poor family.

Next

A Short Biography Of Famous Mathematician

ramanujan biodata

மிகைப்பெருக்கத் தொடரின் பகுதி தொகைகளையும், பொருட்களையும் ஆய்வு செய்வதில் அவர் காட்டிய ஆர்வமே அவருடைய பெரும்வளர்ச்சிக்கு வழிவகுத்தது. Most of them trashed his work without having a proper look. His most famous work was on the number p n of partitions of an integer n into summands. A famous example of his leadership in is his 1900 presentation of a that set the course for much of the mathematical research of the 20th century. Posted Date: 09 Aug 2011 Updated: 09-Aug-2011 Category: Author: Member Level: Points: Do you know who is the father of Malayalam language? His father, , an astronomer and professor of mathematics at , was known for his interest in English, Kannada and Sanskrit languages.

Next

Biography of Srinivasa Ramanujan

ramanujan biodata

When Ramanujan was struggling against his fatal penury no one came to his rescue. As a result he invited Ramanujan to England. It could be said that Pythagoras saw the study of mathematics as a purifier of the soul, just like he considered music as purifying. His health improved in 1918 and he returned to India in 1919. அதனால், அவர் 1911ல் வெளியான ராமானுஜன் அவர்களின் பெர்னோலியின் எண்களின் சில நகலை நவம்பர் 12ஆம் தேதி, 1912 ஆம் ஆண்டு ஹில்லுக்கு அனுப்பி வைத்தார்.


Next

श्रीनिवास रामानुजन् की जीवनी

ramanujan biodata

Obviously it was in Croton where Pythagoras developed most of his important ideas and theories. Ramanujan went straight to the blackboard and wrote some of the results which Professor Berry still had to reach. When he was 16 years old, he got a book entitled A Synopsis of Elementary Results in Pure and Applied Mathematics, which turned his life around. But when Srinivas Ramanujan's work reached G. He also established equations for the sides and diagonal of Cyclic Quadrilateral. I am already a half starving man. Setting this up was not an easy matter.

Next

A. K. Ramanujan

ramanujan biodata

He is also commemorated by the on their on 24 May — he was a devout Christian and believer in who wrote and argued forcefully against the prominent atheists of his time. With the encouragement of friends, he wrote to mathematicians in Cambridge seeking validation of his work. When Hardy read that Ramanujan had no formal mathematical background — evident by the use of his symbols at places that Hardy was stunned by the brilliance. In 1900 he began to work on his own on mathematics summing geometric and arithmetic series. In January 1913 Ramanujan wrote to G H Hardy having seen a copy of his 1910 book Orders of infinity. In this essay, he wrote of the existence of many versions of and a few versions that portrayed and as siblings, which contradicts the popular versions of the Ramayana, such as those by and. A sprawling tree of progressively complex knowledge evolves in such manner.

Next

Srinivasa Ramanujan (1887

ramanujan biodata

Now she is known to be Human Computer. He began to study the Bernoulli numbers, although this was entirely his own independent discovery. For example, they have applications to the theory of black holes in physics. The proofs of many are yet to be worked out. Hardy — who himself had been something of a young genius — with whom he began a correspondence in 1913 and shared some of his work. Sejak kecil ia telah menunjukkan bakat alaminya adalah dengan menguasai trigonometri canggih ditulis oleh S.

Next

Srinivasa Ramanujan Profile, BioData, Updates and Latest Pictures

ramanujan biodata

Ramanujan was an orthodox Brahmin and so was a strict vegetarian. Antara tahun 1912-1913 ia mengirim contoh teorema dikembangkan untuk Cambridge University. Even in his first winter in England, Ramanujan was ill and he wrote in March 1915 that he had been ill due to the winter weather and had not been able to publish anything for five months. Ramaswamy Iyer, who was the founder of the Indian Mathematical Society. And even on his deathbed had been consumed by math, writing down a group of theorems that he said had come to him in a dream.

Next

Profil & Biografi Srinivasa Ramanujan FRS

ramanujan biodata

ராமானுஜன் அவர்கள், உயர்நிலை பள்ளியில் கல்வியில் சிறந்த மாணவனாக விளங்கி பல பரிசுகள் வென்றார். Srinivasa Aiyangar Ramanujan was born on December 22, 1887 in Erode, Tamil Nadu. He was to discover later that he had been studying elliptic functions. Hilbert and his students contributed significantly to establishing rigor and some tools to the mathematics used in modern physics. In 2008, the directed Delhi University to convene a committee to decide on the essay's inclusion. In his mind, numbers, spirits, souls, gods and the mystic connections between them formed one big picture.

Next